27.7 C
Meerut
Friday, September 24, 2021
Home देश मेगन मार्कल ने ब्रिटेन के राजघराने पर लगाया रंगभेद का आरोप

मेगन मार्कल ने ब्रिटेन के राजघराने पर लगाया रंगभेद का आरोप

मेगन ने कहा कि शाही परिवार का माहौल उनके अनुकूल नहीं था. वहां सब मुझसे अलग-अलग रहते थे, मेरे बच्चे को लेकर कमेंट किए जाते थे. एक समय ऐसा भी आया जब मैंने अपनी जान देने का सोचा, लेकिन हैरी ने मुझे संभाल लिया.

प्रिंस हैरी की पत्नी मेगन मार्कल ने ब्रिटेन के राजघराने पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उन्होंने कहा है कि शाही परिवार के सदस्य उनके बेटे आर्ची के रंग को लेकर ताने कसते थे. मेगन के मुताबिक, वह राजघराने द्वारा किए जाने वाले रंगभेद से इस कदर परेशान हो गई थीं कि उन्होंने आत्महत्या जैसा गंभीर कदम उठाने के बारे में भी सोचा था. सिलेब्रिटी टॉक शो होस्ट ओपरा विनफ्रे को दिए इंटरव्यू में मेगन मार्कल और प्रिंस हैरी ने शाही परिवार से जुड़े कई रहस्यों से पर्दा उठाया है.

इंटरव्यू के दौरान मेगन मार्कल ने कहा कि शाही परिवार के लोग उनके बेटे को राजकुमार के तौर पर नहीं देखना चाहते थे, क्योंकि उन्हें लगता था कि आर्ची का रंग काला है. हालांकि, मेगन ने किसी का नाम नहीं लिया. प्रिंस हैरी ने बताया कि उनके पिता प्रिंस चार्ल्स, जो ब्रिटिश सिंहासन के उत्तराधिकारी थे, ने उनका फोन तक उठाना बंद कर दिया था और उन्हें आर्थिक रूप से भी किसी तरह की कोई सहायता नहीं की थी. सोमवार सुबह प्रसारित इस इंटरव्यू पर अब तक शाही परिवार ने कोई टिप्पणी नहीं की है.

इंटरव्यू के दौरान, मेगन मार्कल काफी भावुक भी हो गई थीं. एक सवाल के जवाब में उनकी आंखों से आंसू तक निकलने लगे. मेगन ने कहा कि शाही परिवार का माहौल उनके अनुकूल नहीं था. वहां सब मुझसे अलग -अलग रहते थे, मेरे बच्चे को लेकर कमेंट किए जाते थे. एक समय ऐसा भी आया जब मैंने अपनी जान देने का सोचा, लेकिन हैरी ने सही समय पर मुझे संभाल लिया. उन्होंने आगे कहा कि महल में उनका ध्यान कोई नहीं रखता था. उन्होंने अपने पति के भाई प्रिंस विलियम की पत्नी केट पर उन्हें रुलाने का आरोप भी लगाया. 

मेगन मार्कल ने कहा कि शाही परिवार में होने वाले रंगभेद के खिलाफ आवाज उठाने की उन्होंने कई बार कोशिश की, लेकिन हर बार उन्हें खामोश करवा दिया गया. बता दें कि जनवरी 2020 में प्रिंस हैरी और मेगन ने राजघराने से अलग होने की घोषणा की थी. अपने इस फैसले के बारे में बताते हुए हैरी ने कहा, ‘हमारे लिए इतना बड़ा फैसला लेना आसान नहीं था. लेकिन शाही परिवार में जिस तरह का माहौल था, उसमें रहना बेहद मुश्किल हो गया था’. उन्होंने अपनी मां डायना को याद करते हुए कहा, ‘मैं नहीं चाहता था कि इतिहास खुद को दोहराए. वहां हमें समझने वाला कोई नहीं था, इसलिए हमने शाही परिवार से नाता तोड़ना ही बेहतर समझा. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

तीसरे मोर्चे के गठन को लेकर ओम प्रकाश चौटाला ने एचडी देवगौड़ा एवं मुलायम सिंह यादव से की मुलाकात

इनेलो सुप्रीमो ओम प्रकाश चौटाला ने पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा एवं उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव से की मुलाकात

BJP के खिलाफ कांग्रेस का गद्दी छोड़ो अभियान, प्रदेश अध्यक्ष लल्लू ने कहा- ट्रस्ट के साथ मिलकर सरकार ने अयोध्या में की चंदा चोरी

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले प्रदर्शन और नारेबाजी का दौर शुरू हो गया है। खुद को फिर देश के सबसे...

त्रिपुरा में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की सत्तारूढ़ भाजपा को हराने के लिए तृणमूल कांग्रेस ने जोर लगाना शुरू कर दिया...

त्रिपुरा में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की सत्तारूढ़ भाजपा को हराने के लिए तृणमूल कांग्रेस ने जोर लगाना शुरू...

धनबाद जज हत्या मामला, सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से मामले को मॉनिटरिंग करने का निर्देश दिया।

धनबाद एडिशनल सेशन जज की कथित हत्या का मामला। सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से मामले को मॉनिटरिंग...

Recent Comments