37.2 C
Meerut
Wednesday, June 23, 2021
Home धर्म नवरात्रि के दूसरे दिन इस तरह करें मां ब्रह्मचारिणी की आराधना, पढ़ें...

नवरात्रि के दूसरे दिन इस तरह करें मां ब्रह्मचारिणी की आराधना, पढ़ें आरती और मंत्र

नवरात्रि के दूसरे दिन, भक्त मां भ्रामराचारिणी की पूजा करते हैं, जिन्हें ज्ञान और ज्ञान के प्रतीक के रूप में जाना जाता है.

चैत्र नवरात्रि या वासन्तिक नवरात्र का आरम्भ 13 अप्रैल से शुरू हो गया है और 21 अप्रैल तक चलेंगे। नवरात्रों का यह त्योहार हमारे भारतवर्ष में मनाये जाने वाले प्रमुख त्योहारों में से एक है, जिसका जिक्र पुराणों में भी अच्छे से मिलता है। वैसे तो पुराणों में एक वर्ष में चैत्र, आषाढ़, अश्विन और माघ के महीनों में कुल मिलाकर चार बार नवरात्रों का जिक्र किया गया है, लेकिन चैत्र और अश्विन माह के नवरात्रों को ही प्रमुखता से मनाया जाता है। बाकी दो नवरात्रों को तंत्र-मंत्र की साधना हेतु करने का विधान है। इसलिए इनका आम लोगों के जीवन में कोई महत्व नहीं है। महाशक्ति की आराधना का पर्व नवरात्र के दौरान देवी दुर्गा के अलग-अलग नौ रूपों की पूजा-अर्चना की जाती है, जिन्हें नवदुर्गा की संज्ञा दी गई है।

नवरात्रि के पहले दिन, भक्तों ने मां शैलपुत्री की पूजा की और उन्होंने देवी दुर्गा के एक रूप की पूजा अर्चना की. नवरात्रि के त्योहार में, भक्त मंत्रों का जाप करते हैं और वो देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा करते हैं. नवरात्रि के दूसरे दिन, भक्त मां भ्रामराचारिणी की पूजा करते हैं, जिन्हें ज्ञान और ज्ञान के प्रतीक के रूप में जाना जाता है.

14 अप्रैल 2021 को नवरात्रि का दूसरा दिन है। चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि पर देवी दुर्गा के दूसरे स्वरूप की पूजा आराधना की जाती है। इनके दाहिने हाथ में जप की माला एवं बाएं हाथ में कमंडल रहता है। अपने पूर्व जन्म में जब ये हिमालय के घर में पुत्री रूप में उत्पन्न हुई थीं तब नारद के उपदेश से इन्होने भगवान शंकर जी को पति रूप में प्राप्त करने के लिए अत्यंत कठिन तपस्या की थी। इस दुष्कर तपस्या के कारण इन्हें तपस्चारिणी अर्थात ब्रह्मचारिणी नाम से अभिहित किया गया।

एक हज़ार वर्ष उन्होंने केवल फल, मूल खाकर व्यतीत किए और सौ वर्षों तक केवल शाक पर निर्वाह किया था। कुछ दिनों तक कठिन उपवास रखते हुए देवी ने खुले आकाश के नीचे वर्षा और धूप के भयानक कष्ट सहे। यही कारण है कि इनका नाम ब्रह्मचारिणी कहा गया है। मान्यता है कि जो इनकी पूजा करते हैं वो हमेशा उज्जवलता और ऐश्वर्य का सुख भोगते हैं।।

देवी ब्रह्मचारिणी की उपासना से मनुष्य में तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयम की वृद्धि होती है। जीवन की कठिन समय मे भी उसका मन कर्तव्य पथ से विचलित नहीं होता है। देवी अपने साधकों की मलिनता, दुर्गणों व दोषों को खत्म करती है। देवी की कृपा से सर्वत्र सिद्धि तथा विजय की प्राप्ति होती है।

इस दिन सुबह उठकर नित्यकर्मों से निवृत्त हो जाएं और स्नानादि कर स्वच्छ वस्त्र पहन लें। इसके बाद आसन पर बैठ जाएं। मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करें। उन्हें फूल, अक्षत, रोली, चंदन आदि अर्पित करें। मां को दूध, दही, घृत, मधु व शर्करा से स्नान कराएं। मां को भोग लगाएं। उन्हें पिस्ते की मिठाई का भोग लगाएं। फिर उन्हें पान, सुपारी, लौंग अर्पित करें। मां के मंत्रों का जाप करें और आरती करें। सच्चे मन से मां की पूजा करने पर वो व्यक्ति को संयम रखने की शक्ति प्राप्त करती हैं। तो आइए जानते हैं नवरात्रि के दूसरे दिन कैसे करें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा, पढ़ें आरती, मंत्र कथा।

कैसे करें मां ब्रह्मचारिणी की पूजा?

1 : भक्तों को जल्दी उठना चाहिए और स्नान करना चाहिए.

2 : इसके बाद, भक्तों को फूल, रोली, चन्दन और अन्य पूजा सामग्री ले जाना चाहिए और उन्हें इसे देवी ब्रह्मचारिणी की मूर्ति को अर्पित करना चाहिए.

3 : इसके बाद, भक्त मंत्रों का जाप करते हैं और वो आरती करके पूजा का समापन करते हैं.

देवी ब्रह्मचारिणी की पूजा करते समय सबसे पहले हाथों में एक फूल लेकर उनका ध्यान करें और प्रार्थना करते हुए नीचे लिखा मंत्र बोलें।

श्लोकदधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलु| देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा ||ध्यान मंत्र
वन्दे वांछित लाभायचन्द्रार्घकृतशेखराम्।जपमालाकमण्डलु धराब्रह्मचारिणी शुभाम्॥
गौरवर्णा स्वाधिष्ठानस्थिता द्वितीय दुर्गा त्रिनेत्राम।धवल परिधाना ब्रह्मरूपा पुष्पालंकार भूषिताम्॥
परम वंदना पल्लवराधरां कांत कपोला पीन।पयोधराम् कमनीया लावणयं स्मेरमुखी निम्ननाभि नितम्बनीम्॥

इसके बाद देवी को पंचामृत स्नान कराएं, फिर अलग-अलग तरह के फूल,अक्षत, कुमकुम, सिन्दुर, अर्पित करें। देवी को सफेद और सुगंधित फूल चढ़ाएं। इसके अलावा कमल का फूल भी देवी मां को चढ़ाएं और इन मंत्रों से प्रार्थना करें।

मां ब्रह्मचारिणी का मंत्र:

1. या देवी सर्वभेतेषु मां ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

दधाना कर मद्माभ्याम अक्षमाला कमण्डलू।

देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा।।

2. ब्रह्मचारयितुम शीलम यस्या सा ब्रह्मचारिणी.

सच्चीदानन्द सुशीला च विश्वरूपा नमोस्तुते..

3. ओम देवी ब्रह्मचारिण्यै नमः॥

4. मां ब्रह्मचारिणी का स्रोत पाठ:

तपश्चारिणी त्वंहि तापत्रय निवारणीम्।

ब्रह्मरूपधरा ब्रह्मचारिणी प्रणमाम्यहम्॥

शंकरप्रिया त्वंहि भुक्ति-मुक्ति दायिनी।

शान्तिदा ज्ञानदा ब्रह्मचारिणीप्रणमाम्यहम्॥

5. मां ब्रह्मचारिणी का कवच

त्रिपुरा में हृदयं पातु ललाटे पातु शंकरभामिनी।

अर्पण सदापातु नेत्रो, अर्धरी च कपोलो॥

पंचदशी कण्ठे पातुमध्यदेशे पातुमहेश्वरी॥

षोडशी सदापातु नाभो गृहो च पादयो।

अंग प्रत्यंग सतत पातु ब्रह्मचारिणी।

मां ब्रह्मचारिणी की आरती:

जय अंबे ब्रह्माचारिणी माता।

जय चतुरानन प्रिय सुख दाता।

ब्रह्मा जी के मन भाती हो।

ज्ञान सभी को सिखलाती हो।

ब्रह्मा मंत्र है जाप तुम्हारा।

जिसको जपे सकल संसारा।

जय गायत्री वेद की माता।

जो मन निस दिन तुम्हें ध्याता।

कमी कोई रहने न पाए।

कोई भी दुख सहने न पाए।

उसकी विरति रहे ठिकाने।

जो ​तेरी महिमा को जाने।

रुद्राक्ष की माला ले कर।

जपे जो मंत्र श्रद्धा दे कर।

आलस छोड़ करे गुणगाना।

मां तुम उसको सुख पहुंचाना।

ब्रह्माचारिणी तेरो नाम।

पूर्ण करो सब मेरे काम।

भक्त तेरे चरणों का पुजारी।

रखना लाज मेरी महतारी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

शराब की लत को छुड़ाने के लिए एडमिट एक मरीज ने अपने मासूम बेटे को छत से फेंका

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले से एक दिल दहलाने वाला मामला सामने आया है। जिले के गंगाशील हॉस्पिटल में शराब की लत...

पुत्र-पिता सहित चार की मौत, प्रशासन द्वारा तोड़े गए तहखाने से मिली अवैध शराब

मुरादाबाद के डिलारी थाना क्षेत्र में देर रात एक मकान के तहखाने में जहरीली गैस फैलने से पिता ,दो बेटों सहित चार...

बदायूं की भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्य का बड़ा बयान

बदायूं की भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्य नें एक बड़ा बयान दिया है। सांसद संघमित्रा मौर्य ने टीएमसी सांसद नुसरत जहां की संसद...

डेंटल क्लीनिक संचालक का हत्यारा गिरफ्तार

शामली पुलिस ने दो दिन पहले हुई डेंटल क्लिनिक संचालक की हत्या के मामले में फरार चल रहे हत्यारे को गिरफ्तार किया...

Recent Comments