27.7 C
Meerut
Friday, September 24, 2021
Home शहर और राज्य जीत का जश्न फायरिंग करना पड़ा महंगा, 17 लोगो पर मुकदमा दर्ज!

जीत का जश्न फायरिंग करना पड़ा महंगा, 17 लोगो पर मुकदमा दर्ज!

जीत का जश्न फायरिंग करना पड़ा महंगा , 17 लोगो पर मुकदमा दर्ज!

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद की कोतवाली बिलारी क्षेत्र के एक गांव में पंचायत चुनाव में जीत हासिल करने के बाद प्रत्याशियों द्वारा मनाए गए जश्न और कोरोना महामारी निकाले गए जुलूस और फायरिंग की वीडियो सामने आने के बाद पुलिस ने 17 लोगो के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज करते हुए आगे की कार्यवाही शुरू कर दी है, नामजद किये गए लोग सत्तारूढ़ पार्टी के समर्थक बताए जा रहे है!

पँचायत चुनाव को समाप्त हुई भी काफी समय बीत गया है लेकिन जीते हुए ग्राम प्रधान और उनके समर्थक अभी भी जश्न और जुलूस निकालने से बाज नही आ रहे है , ताजा मामला बिलारी से सपा विधायक मोहम्मद फईम के गांव इब्राहिमपुर से उस समय सामने आया जब सोशल मीडिया पर गांव में निकाले जा रहे जुलूस का वीडियो वायरल हो गया , जिसका संज्ञान लेते हुए बिलारी पुलिस ने 17 लोगो के खिलाफ गम्भीर धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया है , इसमें 16 नामजद है जबकि एक अज्ञात बताया गया है , इस वीडियो में एक युवक देशी तमंचे से फायरिग करते हुए भी नजर आया है , जिसका संज्ञान लेते हुए पुलिस ने धारा 307 भी एड की है!

इस जश्न के जुलूस के सम्बंध में जब नवनिर्वाचित ग्राम प्रधान मोहम्मद साजिद से जानकारी ली गई तो उन्होंने इसे सीधे तौर पर सपा विधायक और उनके चाचा की साजिश करार दिया , और कहा की पँचायत चुनाव में मिली हार को समाजवादी के नेता पचा नही पा रहे है , वही इस पर पूर्व जिला पंचायत सदस्य विकाश यादव ने कहा कि वो लोग तो भाजपा समर्थित लोग है , 1992 से सपा विधायक के चाचा उस्मान इब्राहिम पुर के ग्राम प्रधान निर्वाचित होते आ रहे थे ,लेकिन इस बार उनकी हार से वो परेशान है जिसके चलते इस तरह के मुकदमे लिखवाए जा रहे है वो लोग किसी भी जांच के लिए तैयार है।

इस घटना पर जानकारी देते हुए बिलारी सीओ देश दीपक ने बताया कि वीडियो सामने आने के बाद मुकदमा लिखा गया है , उसमें फायरिंग भी दिखाई दी है , अभी जांच चल रही है।

एक तरफ तो पूरे देश कोरोना महामारी से परेशान हैं लेकिन चुनाव जीत रहे जनप्रतिनिधि को ना तो जनता की चिंता है और ना ही कोरोनावायरस का कोई खतरा है, तभी तो सॉरी गाइडलाइन को दर किनारे करते हुए जीत के जश्न में मसरूफ हैं, जनता को जनप्रतिनिधियों की लापरवाही का खामियाजा अपनी जान देकर चुकाना पड़ता है, एक तो कोरोना का खतरा तो है ही साथ ही जनप्रतिनिधि और उनके समर्थक जनता के बीच में फायरिंग करते हुए साफ नजर आ रहे हैं, और जीत के जश्न में ना तो लोगों के चेहरे पर मास्क है और ना ही कोरोना से कोई खतरा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

तीसरे मोर्चे के गठन को लेकर ओम प्रकाश चौटाला ने एचडी देवगौड़ा एवं मुलायम सिंह यादव से की मुलाकात

इनेलो सुप्रीमो ओम प्रकाश चौटाला ने पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा एवं उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव से की मुलाकात

BJP के खिलाफ कांग्रेस का गद्दी छोड़ो अभियान, प्रदेश अध्यक्ष लल्लू ने कहा- ट्रस्ट के साथ मिलकर सरकार ने अयोध्या में की चंदा चोरी

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले प्रदर्शन और नारेबाजी का दौर शुरू हो गया है। खुद को फिर देश के सबसे...

त्रिपुरा में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की सत्तारूढ़ भाजपा को हराने के लिए तृणमूल कांग्रेस ने जोर लगाना शुरू कर दिया...

त्रिपुरा में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की सत्तारूढ़ भाजपा को हराने के लिए तृणमूल कांग्रेस ने जोर लगाना शुरू...

धनबाद जज हत्या मामला, सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से मामले को मॉनिटरिंग करने का निर्देश दिया।

धनबाद एडिशनल सेशन जज की कथित हत्या का मामला। सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से मामले को मॉनिटरिंग...

Recent Comments