27 C
Meerut
Friday, September 17, 2021
Home शहर और राज्य पीतल फैक्ट्रियों तक पहुंची ऑक्सीजन।

पीतल फैक्ट्रियों तक पहुंची ऑक्सीजन।

32 दिन बाद मुरादाबाद की पीतल फैक्ट्रियों को ऑक्सीजन गैस मिलने के बाद खाली बैठे कामगारों के चेहरे पर खुशी छा गई है, 1 महीने से ज्यादा समय से खाली बैठे पीतल मज़दूर आप काम मिलने से खुश नज़र आ रहे हैं, उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर में पीतल नगरी के नाम से मशहूर मुरादाबाद में भी कोरोना पॉज़िटिव मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ गई थी, जिसके बाद मुरादाबाद के सभी कोविड-19 व नॉन कोविड असप्तालों के सभी बेड फुल हो गए थे, कोरोना पॉज़िटिव मरीजों की जान बचाने के लियें ज़रूरी ऑक्सीजन गैस की मांग बढ़ने के बाद मुरादाबाद के ज़िला प्रशासन ने ऑक्ससीजन गैस की सप्लाई का नियंत्रण अपने हाथ मे ले लिया था, जिसके बाद पीतल फैक्टियों को ऑक्ससीजन गैस न मिलने से काम लगभग बंद हो गया था, अब गैस मिलने से काम पटरी पर लौटने लगा है।

कोरोना की दूसरी लहर में मुरादाबाद में भी कोरोना पॉजिटिव मरीज़ों की रिकॉर्ड संख्या मिलने के बाद असप्तालों में ऑक्ससीजन गैस की मांग बढ़ गई थी, मांग बढ़ने के बाद मुरादाबाद के ज़िला प्रशासन ने ऑक्सीजन गैस के वितरण को अपने नियंत्रण में ले लिया था, ऑक्ससीजन गैस न मिलने से पूरी दुनिया में हर साल 8 हज़ार करोड़ रुपये का सजावटी सामान का निर्यात करने वाला पीतल नगरी का कारोबार ऑक्सीजन गैस ना होने की वजह से ठप हो गया था, मुरादाबाद में पीतल के साथ ही अन्य धातु के बने उत्पाद को बनाने में ऑक्सीजन गैस को एलपीजी या अन्य गैस के साथ मिलाकर वेल्डिंग का कार्य किया जाता है.

ऑक्ससीजन गैस न होने की वजह से सजावटी उत्पाद बनाने के कार्य बंद हो गए थे, ऑक्ससीजन गैस न मिलने से इस कारोबार से जुड़े कामगार भी खाली हो गए थे, अब जैसे-जैसे मुख्यमंत्री का ट्रेस, टेस्ट, ट्रीट का फार्मूला पूरे प्रदेश के साथ ही मुरादाबाद में भी अमल में लाया गया, ट्रिपल T फॉर्मूला अपनाने के बाद कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या कम होती गई और ऑक्सीजन गैस की मांग भी अब ना के बराबर रह गई है, जिसके बाद मुरादाबाद के जिला प्रशासन ने पीतल उद्योग के साथ ही छोटे कारखानेदारों को 30% ऑक्सीजन गैस प्रतिदिन देने का आदेश जारी किया है, इसके बाद आज मुरादाबाद में पीतल कारखानों में ऑक्सीजन गैस मिलने के बाद 32 दिन बाद काम शुरू हुआ है, गैस मिलने के बाद काम कर रहे कामगारों के चेहरे पर खुशी आ गई है और उन्हें उम्मीद है कि जल्दी ही कोरोना पॉजिटिव मरीज की संख्या जीरो हो जाएगी और उन्हें पहले की तरह ऑक्सीजन गैस मिलने लगेगी, पहले वह हफ्ते में 8 दिन काम करते थे लेकिन अब 30% ऑक्सीजन गैस मिलने से वह हफ्ते में 3 दिन ही काम कर पाएंगे, लेकिन खाली होने से यह बेहतर है, वही पीतल का कारखानेदार का कहना है उनके पास ऑक्सीजन गैस के काफी सिलेंडर थे लेकिन उन्होंने वह सभी सिलेंडर जिला प्रशासन को सौंप दिए थे ताकि उन सिलेंडर की गैस से किसी की जान बच जाए अब ऑक्सीजन की मांग कम हो गई है तो अब उन्हें सिलेंडर 30% गैस के साथ मिलने लगे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

तीसरे मोर्चे के गठन को लेकर ओम प्रकाश चौटाला ने एचडी देवगौड़ा एवं मुलायम सिंह यादव से की मुलाकात

इनेलो सुप्रीमो ओम प्रकाश चौटाला ने पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा एवं उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव से की मुलाकात

BJP के खिलाफ कांग्रेस का गद्दी छोड़ो अभियान, प्रदेश अध्यक्ष लल्लू ने कहा- ट्रस्ट के साथ मिलकर सरकार ने अयोध्या में की चंदा चोरी

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले प्रदर्शन और नारेबाजी का दौर शुरू हो गया है। खुद को फिर देश के सबसे...

त्रिपुरा में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की सत्तारूढ़ भाजपा को हराने के लिए तृणमूल कांग्रेस ने जोर लगाना शुरू कर दिया...

त्रिपुरा में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की सत्तारूढ़ भाजपा को हराने के लिए तृणमूल कांग्रेस ने जोर लगाना शुरू...

धनबाद जज हत्या मामला, सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से मामले को मॉनिटरिंग करने का निर्देश दिया।

धनबाद एडिशनल सेशन जज की कथित हत्या का मामला। सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से मामले को मॉनिटरिंग...

Recent Comments