25.9 C
Meerut
Friday, June 18, 2021
Home International विश्व पर्यावरण दिवस: इतिहास, महत्वता, और ज़रूरत

विश्व पर्यावरण दिवस: इतिहास, महत्वता, और ज़रूरत

विश्व पर्यावरण दिवस UN द्वारा आयोजित किया जाना वाला एक महत्वपूर्ण सालाना पर्व है जो की सम्पूर्ण विश्व को की महत्वता के बारे में जागरूक करता है।

लोगों को प्रकृति के महत्व के बारे में याद दिलाने के लिए हर साल 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। यह दिन दुनिया भर में लोगों को यह सूचित करने के लिए मनाया जाता है कि प्रकृति को हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए और इसके मूल्यों के लिए इसका सम्मान किया जाना चाहिए।

विश्व पर्यावरण दिवस का इतिहास

विश्व पर्यावरण दिवस प्रकृति के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए संयुक्त राष्ट्र (यूएन) द्वारा आयोजित सबसे बड़े वार्षिक कार्यक्रमों में से एक है। संयुक्त राष्ट्र सभा ने 1972 में विश्व पर्यावरण दिवस की स्थापना की 

1974 में विश्व पर्यावरण दिवस की थीम 'केवल एक पृथ्वी' थी। तब से, विभिन्न मेजबान देश इसे मना रहे हैं। विश्व पर्यावरण दिवस पहली बार 1974 में संयुक्त राज्य अमेरिका में मनाया गया था।

विश्व पर्यावरण दिवस का महत्व

विश्व पर्यावरण दिवस मनाने के पीछे की अवधारणा पर्यावरण के महत्व पर ध्यान केंद्रित करना और लोगों को यह याद दिलाना है कि प्रकृति को हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए। यह दिन दुनिया भर में पर्यावरण ने मानव जाति को दी गई हर चीज का सम्मान करने और स्वीकार करने और इसकी रक्षा करने की प्रतिज्ञा लेने के लिए मनाया जा रहा है।

विश्व पर्यावरण दिवस 2021

लगभग 1.5 वर्षों से दुनिया जिस महामारी से जूझ रही है, उसने दिखाया है कि पारिस्थितिकी तंत्र के नुकसान के परिणाम कितने विनाशकारी हो सकते हैं। जानवरों के लिए प्राकृतिक आवास के क्षेत्र को कम करके, हमने कोरोनावायरस सहित रोगजनकों के फैलने के लिए लिए आदर्श परिस्थितियों का निर्माण किया है। केवल स्वस्थ पारिस्थितिक तंत्र के साथ ही हम लोगों की आजीविका को बढ़ा सकते हैं, जलवायु परिवर्तन का प्रतिकार कर सकते हैं और जैव विविधता के पतन को रोक सकते हैं।

विश्व पर्यावरण दिवस 2021 की थीम

विश्व पर्यावरण दिवस 2021 की थीम 'पारिस्थितिकी तंत्र की बहाली' है और पाकिस्तान इस दिन का वैश्विक मेजबान होगा। यह विश्व पर्यावरण दिवस पारिस्थितिकी तंत्र की बहाली (2021-2030) पर संयुक्त राष्ट्र के दशक की शुरुआत करेगा, जो जंगलों से लेकर खेत तक, पहाड़ों की चोटी से लेकर समुद्र की गहराई तक अरबों हेक्टेयर को पुनर्जीवित करने का एक वैश्विक मिशन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

शामली: सीओ सिटी ने दी सीएमएस और उनके स्टाफ को धमकी

जनपद शामली में सीओ सिटी द्वारा सीएमएस और उनके स्टाफ को धमकी देने का मामला सामने आया है जहां पर कोविड-19 L2...

पुलिस विभाग की बड़ी चूक आयी सामने, जीजा की जगह सिपाही बनकर ड्यूटी कर रहा था साला

उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद में पुलिस विभाग की एक बड़ी चूक का खुलासा हुआ है। पिछले कई साल से सिपाही जीजा...

हाईकोर्ट की फटकार का पड़ा असर: रुका अवैध निर्माण कार्य

बात जब सत्ता की आती है तो अधिकारियों की आंखे अपने आप बन्द हो जाती हैं। यानि जिस कानून के लिये आम...

अयोध्या मंडल में सबसे ऊंचा तिरंगा लहराया जिला सुल्तानपुर में

अयोध्या मण्डल के सुल्तानपुर शहर में आस पास के जिलों की तुलना में सबसे ऊंचा तिरंगा फहराया, इसकी पूरी तैयारी और रूप...

Recent Comments