25.9 C
Meerut
Friday, June 18, 2021
Home देश नाबालिग लड़कियों को मोबाइल नहीं देना चाहिए: UP महिला आयोग की सदस्य...

नाबालिग लड़कियों को मोबाइल नहीं देना चाहिए: UP महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी

उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की अध्यक्षा मीना कुमारी ने महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराधों के लिए उनके मोबाइल फोन को ही जिम्मेदार ठहरा दिया है। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने विवादित बयान देते हुए कहा कि महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराधों में कहीं ना कही मोबाइल का भी योगदान है। मीना कुमारी का यह बयान वायरल हो रहा है और विपक्ष ने उनके इस बयान की आलोचना की है।

मीना कुमारी उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की नेता और सदस्य हैं। वह अलीगढ़ से दो बार जिला पंचायत सदस्य के रूप में चुनी गईं। बाद में अपनी टिप्पणी को स्पष्ट करने की कोशिश करते हुए, उसने दावा किया कि गांवों की लड़कियों को “फ़ोन का सही तरीके से उपयोग करना” नहीं आता है। उसने संवाददाताओं से कहा कि उसका मतलब है कि गांवों के नाबालिग और लड़कियां लड़कों से दोस्ती करने के लिए फोन का इस्तेमाल करती हैं और फिर भाग जाती हैं। उसने दावा किया कि स्मार्टफोन का इस्तेमाल अनुचित सामग्री देखने के लिए भी किया जा रहा है।

प्रदेश के कई इलाकों में रेप के मामलों पर पूछे एक सवाल के जवाब में मीना कुमारी ने कहा, ‘समाज में लड़कियों के खिलाफ अपराध रूक नहीं रहे हैं।  हम लोगों के साथ-साथ इसमें समाज को भी पैरवी करनी होगी। अपनी बेटियों को भी देखना पड़ेगा कि कहां जा रही हैं और क्या है और किस लड़के के साथ बैठ रही हैं। मोबाइल को भी देखना पड़ेगा। सबसे पहले में लोगों को ये कहते रहती हूं कि लड़कियां मोबाइल से बातें करते रहती हैं और यहां तक मैटर पहुंच जाता है कि वो शादी के लिए भाग जाती है।’ 

मीना कुमारी यहीं नहीं रूकी, उन्होंने अपील करते हुए कहा, ‘लड़कियों को मोबाइल न दें और अगर मोबाइल दें तो उनकी पूरी मॉनिटरिंग करें। इसमें मां की बड़ी जिम्मेदारी है  और आज अगर बेटियां बिगड़ गई हैं तो उसके लिए उनकी माताएं ही जिम्मेदार हैं।’

उत्तर प्रदेश राज्य महिला आयोग की अध्यक्षा मीना कुमारी

मीना कुमारी ने कहा कि कल मेरे पास एक मैटर आया है। वाल्मिकी की लड़की है और जाटव का लड़का है। कल लोग मेरे पास आए, उनपर ज्यादा सख्ती हुई तो उन्होंने फोटो डाल दी और शादी कर ली। गांव के लोगों ने पंचायत करके कहा कि हम घर में घुसने नहीं देंगे। मीना कुमारी ने कहा कि मैं अपील करूंगी कि घर वाले मोबाइल ना दें। अगर दें तो उसका पूरा ध्यान रखें। मैं बच्चों की मां से कहूंगी वो अगर मोबाइल दें तो उसका ध्यान रखें। मां की लापरवाही से ही बेटियों का ये हश्र होता है।

अपनी टिप्पणियों के पीछे का कारण बताते हुए, कुमारी ने कहा कि वह प्रतिदिन औसतन बीस से अधिक महिलाओं की शिकायतें सुनती हैं। उसने कहा कि उसने कम से कम पांच से सात मामलों का सामना किया जो सेलफोन पर लड़कों और लड़कियों के बीच दोस्ती और उनके बाद के प्रभावों से संबंधित हैं। उन्होंने आगे कहा कि कई मामलों में लड़कियों को एक खास जगह फुसलाया जाता था और फिर उनका यौन शोषण किया जाता था. उनकी टिप्पणी राज्य में कथित बलात्कार के मामलों में तेजी से वृद्धि के बारे में एक सवाल के जवाब में थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

शामली: सीओ सिटी ने दी सीएमएस और उनके स्टाफ को धमकी

जनपद शामली में सीओ सिटी द्वारा सीएमएस और उनके स्टाफ को धमकी देने का मामला सामने आया है जहां पर कोविड-19 L2...

पुलिस विभाग की बड़ी चूक आयी सामने, जीजा की जगह सिपाही बनकर ड्यूटी कर रहा था साला

उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद में पुलिस विभाग की एक बड़ी चूक का खुलासा हुआ है। पिछले कई साल से सिपाही जीजा...

हाईकोर्ट की फटकार का पड़ा असर: रुका अवैध निर्माण कार्य

बात जब सत्ता की आती है तो अधिकारियों की आंखे अपने आप बन्द हो जाती हैं। यानि जिस कानून के लिये आम...

अयोध्या मंडल में सबसे ऊंचा तिरंगा लहराया जिला सुल्तानपुर में

अयोध्या मण्डल के सुल्तानपुर शहर में आस पास के जिलों की तुलना में सबसे ऊंचा तिरंगा फहराया, इसकी पूरी तैयारी और रूप...

Recent Comments