25.2 C
Meerut
Friday, June 18, 2021
Home शहर और राज्य हैंडपंप बना स्थानीय प्रशासन के लिए परेशानी का सबब..! आखिर कब लगेगा...

हैंडपंप बना स्थानीय प्रशासन के लिए परेशानी का सबब..! आखिर कब लगेगा हैंडपंप प्रकरण पर विराम……

उत्तर प्रदेश की नंबर 1 विधानसभा सीट बेहट के मोहल्ला मनिहारान में हैंडपंप को लेकर शुरू हुआ गदर थमने का नाम नहीं ले रहा है। हैंडपंप हटवाने व लगाने को लेकर जहां जिले की सियासत गरमा गई थी वहीं, अब जिला प्रशासन ने नल को दूसरी जगह लगाने की बात कही है। लेकिन अब इस मामले में नया मोड़ आ गया है जिस जगह को प्रशासन ने हैंड पंप लगाने के लिए चिन्हित किया है,उसके खिलाफ भी अब लोग आ खड़े हुए हैं। कई दुकानदारों ने एसडीएम बेहट को पत्र सौंपकर उनकी दुकान के आगे हैंडपंप न लगवाए जाने की मांग की है।

दरअसल, जनपद सहारनपुर के बेहट कस्बे के मोहल्ला मनिहारान में 40 साल पुराने हैंडपंप को हटवाना स्थानीय प्रशासन के लिए परेशानी का सबब बन गया। एक दुकानदार की शिकायत पर स्थानीय प्रशासन ने पुलिस फोर्स के साथ सड़क किनारे खड़े हैंडपंप को हटवा दिया था। हैंडपंप हटवाने के बाद सियासी दौर शुरू हो गया। हैंडपंप लगाने की मांग को लेकर कांग्रेस के दो विधायको, एक पूर्व मंत्री, पूर्व एमएलसी तथा कस्बे के चेयरमैन सहित कई लोग धरने पर बैठ गए थे। एसडीएम द्वारा दोबारा हैंडपंप लगाने का आश्वासन देने के बाद ही धरना समाप्त किया गया था। एसडीएम द्वारा दोबारा उसी स्थान पर हैंड पंप लगाने के आश्वासन के खिलाफ विश्व हिंदू परिषद व बजरंग दल सहित हिंदू संगठनों के कार्यकर्ता खड़े हुए थे। हिंदू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने कोतवाली बेहट में धरना दिया और हनुमान चालीसा का पाठ किया। इस दौरान एसडीएम बेहट को ज्ञापन भी सौंपा गया था।

वहीं दूसरी ओर प्रशासन द्वारा दिए गए आश्वासन के बाद भी जब हैंडपंप दोबारा नहीं लगाया गया तो कांग्रेसियों ने फिर से धरने पर बैठने का ऐलान कर दिया और जैसे ही कांग्रेस के विधायक नरेश सैनी मसूद, सहारनपुर देहात विधायक मसूद अख्तर, पूर्व मंत्री शायान मसूद धरने पर बैठने जा रहे थे उसी दौरान पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने उन्हें रोक लिया। पुलिस प्रशासन द्वारा रोके जाने से गुस्साए विधायक हाइवे पर ही धरने पर बैठ गए लेकिन पुलिस ने उन्हें जबरन गाड़ी में बैठा कर पुलिस लाइन भेज दिया। इसके बाद डीएम सहारनपुर द्वारा मीडिया को जारी बयान में कहा गया कि हैंडपंप प्रकरण अब समाप्त हो चुका है और हटवाए गए नल से कुछ दूरी पर नया हैंडपंप लगवाया जाएगा। लेकिन अब इस पूरे प्रकरण में नया मोड़ आ गया है। जिस स्थान को प्रशासन द्वारा चिन्हित किया गया उस दुकान मालिक ने हैंडपंप न लगवाने की बात कही है। इतना ही नहीं चेतावनी दी गई यदि प्रशासन ने जबरन हैंडपंप लगवाने की कोशिश की तो वह मिट्टी का तेल छिड़ककर खुद को आग लगा लेंगे। यह वीडियो वायरल होने के बाद स्थानीय प्रशासन में फिर हड़कंप मच गया और आनन-फानन में सीओ व एसडीएम बेहट मौके पर पहुंचे और उन्होंने उससे कुछ दूरी पर दूसरी जगह चिन्हित की।

अब दूसरी जगह चिन्हित होने के बाद आसपास के दुकानदार इसके विरोध में उतर आए हैं। दुकानदारों का कहना है कि जहां प्रशासन हैंडपंप लगवाना चाहता है वहां पहले से ही नल है और उस स्थान पर यदि हैंडपंप लगाया गया तो दुर्घटनाओं का खतरा बढ़ जाएगा। मामले को लेकर दुकानदारों ने एसडीएम बेहट को पत्र देकर हैंडपंप न लगाए जाने की गुहार लगाई है। पहले हैंडपंप को हटवाना और अब नए हैंडपंप को लगवाना स्थानीय प्रशासन के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। अब देखना यह होगा कि स्थानीय प्रशासन डीएम के आदेश अनुसार हैंडपंप लगवा पाएगा या नहीं…..! बहरहाल जो भी हो एक हैंडपंप ने सुबे की सियासत में गदर मचा रखा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

शामली: सीओ सिटी ने दी सीएमएस और उनके स्टाफ को धमकी

जनपद शामली में सीओ सिटी द्वारा सीएमएस और उनके स्टाफ को धमकी देने का मामला सामने आया है जहां पर कोविड-19 L2...

पुलिस विभाग की बड़ी चूक आयी सामने, जीजा की जगह सिपाही बनकर ड्यूटी कर रहा था साला

उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद में पुलिस विभाग की एक बड़ी चूक का खुलासा हुआ है। पिछले कई साल से सिपाही जीजा...

हाईकोर्ट की फटकार का पड़ा असर: रुका अवैध निर्माण कार्य

बात जब सत्ता की आती है तो अधिकारियों की आंखे अपने आप बन्द हो जाती हैं। यानि जिस कानून के लिये आम...

अयोध्या मंडल में सबसे ऊंचा तिरंगा लहराया जिला सुल्तानपुर में

अयोध्या मण्डल के सुल्तानपुर शहर में आस पास के जिलों की तुलना में सबसे ऊंचा तिरंगा फहराया, इसकी पूरी तैयारी और रूप...

Recent Comments