24.3 C
Meerut
Thursday, December 8, 2022
Home शहर और राज्य हाईकोर्ट की फटकार का पड़ा असर: रुका अवैध निर्माण कार्य

हाईकोर्ट की फटकार का पड़ा असर: रुका अवैध निर्माण कार्य

बात जब सत्ता की आती है तो अधिकारियों की आंखे अपने आप बन्द हो जाती हैं। यानि जिस कानून के लिये आम जन को कटघरे में खड़ा कर दिया जाता है, खास लोगो के लिये उसी नियम कानून में चरण वन्दना जैसा हिसाब किताब है। ऐसा ही एक मामला सुल्तानपुर में देखने को मिल रहा है। जहां नजूल की जमीन में बने मन्दिर परिसर की दुकानों कमरों को ट्रस्टियों द्वारा जीर्ण शीर्ण बता कर तोड़ दिया गया। स्थानीय प्रशासन और भाजपाइयों द्वारा करोड़ों की इस बेशकीमती जमीन पर व्यवसायिक काम्प्लेक्स का निर्माण शुरू करवा दिया गया। हैरानी की बात तो रही कि स्थानीय कोर्ट से स्थगन आदेश बावजूद भी अधिकारी अनदेखी करते रहे और निर्माण कार्य धड़ल्ले से होता रहा। भला हो हाइकोर्ट की डबल बेंच का, जिसने पीआईएल पर सुनवाई करते हुये जिलाधिकारी को निर्देश दिया तो यहां हड़कम्प मच गया। आनन फानन मौके पर पहुंची पुलिस और प्रशासन ने कार्य रुकवाया और आगे कार्य न करने की हिदायत दी है।

दरअसल ये मामला है नगर के तिकोनिया पार्क का। इसी तिकोनिया पार्क के बगल तुलसी सत्संग भवन में दशकों पुराना मौनी मंदिर है। मंदिर परिसर में व्यवसायिक दुकाने और कमरे बने हुये हैं जिसमें लोग दशको से रह रहे थे। लेकिन करोड़ों की बेशकीमती जमीन देखकर तुलसी सत्संग भवन के ट्रस्टियों की नीयत डोल गई। फरवरी माह में दुकानों को जीर्ण शीर्ण बताकर खाली कराया जाने लगा। कुछ लोगों को दोबारा बसाने का आश्वासन दिया गया, लेकिन जिन लोगों ने पेशगी देने से इनकार कर दिया गया उन्हें जबरन हटाने की बात सामने आई। लिहाजा वहाँ रह रहे दुकानदारों और किरायेदारों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया था। कुछ लोगों ने न्यायालय का सहारा भी लिया। जहां कोर्ट ने सुनवाई करते हुये स्थगन आदेश दे दिया और वहां यथास्थिति बरकरार रखने के निर्देश दिए। लेकिन इसके बाद भी वहां कार्य निरंतर चलता रहा। मौनी मंदिर में जहां दो मंजिला दुकाने और कमरे थे उसे नेस्तोनाबूत कर दिया गया। साथ ही नया निर्माण शुरू करवाया जाने लगा। हैरानी की बात तो ये रही कि प्रशासन और पुलिस भी इससे अपने को अंजान दिखाते रहे। नजूल या खतौनी की जमीन पर बिना स्वीकृत नक्शे के कोई भी आम आदमी एक ईंट रख दे तो यही अधिकारी उसका जीना मुहाल कर दें, लेकिन मामला सत्ताधीशो से जुड़ा था लिहाजा कोई झांकने तक नहीं गया। इसी के चलते रवींद्र प्रताप सिंह समेत कुछ लोगों ने हाइकोर्ट में जनहित याचिका दायर की। जहां सुनवाई करते हुये न्यायधीश ने जिलाधिकारी सुल्तानपुर को निर्देशित किया तो एक बार फिर हड़कम्प मच गया। आनन फानन एसडीएम सदर की अगुवाई में तमाम अधिकारी और पुलिसकर्मी मौनी मन्दिर परिसर पहुंचे और निर्माण कार्य रुकवा दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

तीसरे मोर्चे के गठन को लेकर ओम प्रकाश चौटाला ने एचडी देवगौड़ा एवं मुलायम सिंह यादव से की मुलाकात

इनेलो सुप्रीमो ओम प्रकाश चौटाला ने पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा एवं उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव से की मुलाकात

BJP के खिलाफ कांग्रेस का गद्दी छोड़ो अभियान, प्रदेश अध्यक्ष लल्लू ने कहा- ट्रस्ट के साथ मिलकर सरकार ने अयोध्या में की चंदा चोरी

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले प्रदर्शन और नारेबाजी का दौर शुरू हो गया है। खुद को फिर देश के सबसे...

त्रिपुरा में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की सत्तारूढ़ भाजपा को हराने के लिए तृणमूल कांग्रेस ने जोर लगाना शुरू कर दिया...

त्रिपुरा में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की सत्तारूढ़ भाजपा को हराने के लिए तृणमूल कांग्रेस ने जोर लगाना शुरू...

धनबाद जज हत्या मामला, सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से मामले को मॉनिटरिंग करने का निर्देश दिया।

धनबाद एडिशनल सेशन जज की कथित हत्या का मामला। सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से मामले को मॉनिटरिंग...

Recent Comments