31.8 C
Meerut
Saturday, July 24, 2021
Home शहर और राज्य उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद रेलवे स्टेशन के दर्जनों वेंडर्स ने आज रेलवे...

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद रेलवे स्टेशन के दर्जनों वेंडर्स ने आज रेलवे स्टेशन पर धरना प्रदर्शन कर रेलवे के पावर केबिन स्टाफ़ पर कैटरिंग स्टॉल के संचालकों से पैसे लेकर ट्रेनों को इधर से उधर करने का आरोप लगाया है

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद रेलवे स्टेशन के दर्जनों वेंडर्स ने आज रेलवे स्टेशन पर धरना प्रदर्शन कर रेलवे के पावर केबिन स्टाफ़ पर कैटरिंग स्टॉल के संचालकों से पैसे लेकर ट्रेनों को इधर से उधर करने का आरोप लगाया है, प्रदर्शन करने वाले वेंडर्स राजेंद्र सिंह का कहना है के मुरादाबाद रेलवे स्टेशन का पावर के केबिन स्टाफ़ प्लेटफार्म नंबर एक / दो व तीन पर यात्री ट्रेनों का ठहराव निर्धारित होने के बाद भी ट्रेनों को चार व पांच नंबर प्लेटफार्म पर ट्रांसफर कर रहा है जिसकी वजह से उनके स्टॉल पर बिक्री नहीं हो रही है और वह कर्जदार हो रहे हैं, पावर केबिन स्टाफ पर आरोप है कि वो पंजाब से बिहार आने जाने वाली ट्रेनों का प्लेटफार्म बदलने के नाम पर 1600 रुपए कैटरिंग संचालकों से वसूलता है, प्रदर्शन करने वालों का कहना है कि इस समय कोरोना काल के समय वैसे ही ट्रेनों में यात्री कम यात्रा कर रहे हैं जिसकी वजहा से वो परशान हैं, अब अगर ये ही हाल रहा तो स्टॉल का किराया और स्टाफ का खर्च देना भी मुश्किल हो जाएगा उन्हें मजबूरी में अपना कैंटीन बंद करना पड़ेगा।

वी ओ : मुरादाबाद रेलवे स्टेशन पर कैटरिंग स्टॉल चलाने वाले संचालकों का आरोप है कि रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 1, 2 व 3 पर आने वाली ट्रेनों को जानबूझकर रेलवे के पावर केबिन स्टाफ प्लेटफार्म नंबर चार व पांच पर भेज रहे हैं और प्लेटफार्म नंबर एक दो और तीन पर सिर्फ माल गाड़ियों को ही रोक रहे हैं इस वजह से उनका व्यापार चौपट हो गया है और रेलवे को उनको जो स्टॉल का प्रतिदिन किराया देना होता है वह भी निकालना मुश्किल हो गया है, प्रदर्शन करने वालों का आरोप है कि रेलवे पावर केबिन में तैनात कर्मचारी को 1600 रुपये प्रतिदिन के हिसाब उन कैटरिंग संचालकों को देने होते हैं जिन्हें यात्री ट्रेन अपने प्लेटफार्म पर बुलानी होती है, इस वजह से सभी ट्रेनें प्लेटफार्म नंबर 4 व 5 पर जा रही हैं, पेसें देकर अपने प्लेटफार्म पर ट्रेन का एलॉटमेंट कराने वाले केटरिंग संचालकों पर भी आरोप है कि इस वजह से यात्रियों से मनमाने रेट पर सामान बेचकर अवैध वसूली करते हैं, प्रदर्शनकरी वेंडर्स का आरोप है कि उन्हें रेलवे को प्रतिदिन 7 हज़ार रुपये के हिसाब से किराया देना होता है इसके साथ ही इस स्टॉल पर तैनात स्टाफ का भी खर्चा देना होता है, ट्रेन न आने से बिक्री ना होने की वजह से यह सब निकालना अब मुश्किल हो गया है।

प्रदर्शन करने वाले प्लेटफार्म नंबर 1 , 2 व 3 के कैटरिंग स्टॉल संचालकों का कहना है कि अगर ये ही हाल रहा तो उन्हें कैंटीन बंद करना पड़ेगा, उन्होंने मांग की है कि पावर केबिन में तैनात स्टाफ की जांच कराई जाए और इस समस्या का समाधान कराया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बाढ़ खंड विभाग की किसानों को चेतावनी: नदियों को पार न करें और ना ही कच्चे पुलों का उपयोग करें

उत्तराखंड के पहाड़ों पर हो रही भारी बारिश का असर पश्चिम उत्तर प्रदेश के मैदानी इलाकों में भी साफ नजर आ रहा...

अमर शहीद चंद्र शेखर आजाद का जन्मदिन आज

सुल्तानपुर में आज अमर शहीद चंद्र शेखर आजाद के जन्म दिवस के मौके पर जनपद की समाज सेवी संस्था आजाद सेवा समिति...

रेलवे ने चलाया सघन चेकिंग अभियान

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जनपद में रेलवे स्टेशन पर आज जीआरपी और आरपीएफ ने संयुक्त चेकिंग अभियान चलाया है जिसमें संदिग्ध लोगों...

सड़क हादसे में दंपति की मौत

मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना इलाके में अनियंत्रित प्राइवेट बस की बाइक से टक्कर हो जाने पर बाइक सवार दंपत्ति की हादसे में दर्दनाक...

Recent Comments