33.9 C
Meerut
Sunday, September 19, 2021
Home शहर और राज्य प्रदेश में वल्लभनगर और धरियावाद विधानसभा उपचुनाव के लिए निर्वाचन आयोग ने...

प्रदेश में वल्लभनगर और धरियावाद विधानसभा उपचुनाव के लिए निर्वाचन आयोग ने अभी तारीखों की घोषणा नहीं की है| प्रदेश कांग्रेस ने अभी से ही चुनावी तैयारियां शुरू कर दी हैं।

राजस्थान :प्रदेश में वल्लभनगर और धरियावाद विधानसभा उपचुनाव के लिए निर्वाचन आयोग ने अभी तारीखों की घोषणा नहीं की है। लेकिन प्रदेश कांग्रेस ने अभी से ही चुनावी तैयारियां शुरू कर दी हैं।वल्लभनगर और धरियावाद उपचुनाव के लिए पार्टी की ओर से सात-सात सदस्यों वाली कमेटी की घोषणा 16 जुलाई को ही हो चुकी है, अब चुनावी तैयारियों को लेकर आज गुरुवार को दोपहर 12:00 बजे धरियावाद और वल्लभनगर चुनाव समिति की बैठक प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित होगी। जिसमें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा दोनों समितियों के सदस्यों के साथ चुनावी रणनीति पर मंथन करेंगे। दोनों विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव को लेकर बनाई गई कमेटियों की यह पहली बैठक है। वल्लभनगर से कांग्रेस विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत के निधन के कारण इस सीट पर उपचुनाव हो रहे हैं तो वहीं धरियावाद में भाजपा विधायक गौतम लाल मीणा के निधन के कारण उपचुनाव होंगे। प्रदेश कांग्रेस की ओर से वल्लभनगर और धरियावाद उपचुनाव के लिए घोषित कमेटी की रिपोर्ट और सिफारिश के आधार पर ही प्रत्याशियों के नाम पर फैसला किया जाएगा । वल्लभनगर उप चुनाव समिति में परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास को संयोजक बनाया गया है तो वहीं धरियावाद उपचुनाव में जनजाति राज्यमंत्री अर्जुन लाल बामणिया को कमेटी का संयोजक बनाया है। वल्लभ नगर में प्रताप सिंह खाचरियावास को संयोजक और खान मंत्री प्रमोद जैन भाया, सहकारिता उदयलाल आंजना, युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष विधायक गणेश घोगरा, विधायक दयाराम परमार, लाखन मीणा और पूर्व मंत्री पुष्कर डांगी को सदस्य बनाया गया है।धरियावाद विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव के लिए जनजाति राज्यमंत्री अर्जुन लाल बामणिया को संयोजक, खेल राज्यमंत्री अशोक चांदना, पूर्व सांसदसीडब्ल्यूसी के सदस्य रघुवीर मीणा, विधायक महेंद्रजीत सिंह मालवीय, रामलाल मीणा कांग्रेस नेता दिनेश खोड़निया और धर्मेंद्र राठौड़ को समिति का सदस्य बनाए गया है। गौरतलब है कि वल्लभनगर में कांग्रेस स्वर्गीय विधायक गजेंद्र सिंह शेखावत की पत्नी को उम्मीदवार बनाने इच्छुक है तो वहीं दूसरी ओर धरियावाद में रघुवीर मीणा की सलाह के आधार पर कांग्रेस अपना उम्मीदवार तय कर सकती है। उप चुनाव को जीतने की रणनीति के पर अधिक विचार होने की संभावना है। प्रदेश में कांग्रेस सत्ता में ऐसे में जीत हार का सीधा असर सीएम गहलोत की सरकार पर पड़ेगा। ऐसे में जीत सुनिश्चित करने के लिए सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस को विशेष प्रयास करने पड़ेंगे। इससे पहले भी 3 उप चुनाव हो चुके हैं उसमें प्रदेश कांग्रेस कमेटी की इतनी महत्वपूर्ण भूमिका रही यह सबको पता है। ऐसे में अब फिर से सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी को अधिक सक्रिय होकर एकता का संदेश भी देना पड़ेगा नहीं तो निश्चित उसे चुनाव में उसका विपरीत प्रभाव पड़ सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

तीसरे मोर्चे के गठन को लेकर ओम प्रकाश चौटाला ने एचडी देवगौड़ा एवं मुलायम सिंह यादव से की मुलाकात

इनेलो सुप्रीमो ओम प्रकाश चौटाला ने पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा एवं उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव से की मुलाकात

BJP के खिलाफ कांग्रेस का गद्दी छोड़ो अभियान, प्रदेश अध्यक्ष लल्लू ने कहा- ट्रस्ट के साथ मिलकर सरकार ने अयोध्या में की चंदा चोरी

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले प्रदर्शन और नारेबाजी का दौर शुरू हो गया है। खुद को फिर देश के सबसे...

त्रिपुरा में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की सत्तारूढ़ भाजपा को हराने के लिए तृणमूल कांग्रेस ने जोर लगाना शुरू कर दिया...

त्रिपुरा में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य की सत्तारूढ़ भाजपा को हराने के लिए तृणमूल कांग्रेस ने जोर लगाना शुरू...

धनबाद जज हत्या मामला, सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से मामले को मॉनिटरिंग करने का निर्देश दिया।

धनबाद एडिशनल सेशन जज की कथित हत्या का मामला। सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से मामले को मॉनिटरिंग...

Recent Comments